Showing posts with label childhood story in hindi. Show all posts
Showing posts with label childhood story in hindi. Show all posts

Thursday, 17 January 2019

किस्मत : दो बच्चों की कहानी | Two Children Story In Hindi


TWO CHILDREN STORY IN HINDI


Two Children Story In Hindi
Two Children Story In Hindi 

यह कहानी हैं दो बच्चे की दोनों एक शहर में रहते थे। उनमें से एक अरबपती का बच्चा था और दूसरा मिडिल क्लास फैमिली से बिलोंग करता था, उसके पापा एक छोटी सी कंपनी में काम करते थे। 

मगर एक खास बात यह थी की उस बिजनेसमैन का बच्चा और उस साधारण नौकरी करने वाले के बच्चे का स्कुल का समय एक ही था। 


Saturday, 29 December 2018

जादुई झोला | Story For Kids in Hindi | Moral Story For Kids in Hindi


Moral Story For Kids in Hindi


Story For Kids in Hindi - किसी गांव में एक किसान रहता था। वह बहुत ईमानदार था, एक दिन की बात हैं किसान को अपने खेत में बीजों की बोआई करनी थी। 

उसने एक झोले में कुछ बीज लिया और अपने खेत की तरफ निकल गया। उसने खेत में अच्छे से बीज की बोआई की और सोचा की थोड़ा खाना खा लेता हूँ, फिर घर जाऊँगा। 

उसने अपने झोले में से कुछ रोटियाँ निकली और झोले को पेड़ पर रख दिया और खाना खाने लगा। 

उसने भर पेट खाना खाया, आज उसने बहुत अधिक मेहनत किया था इसलिये उसे खाना भी बहुत स्वादिस्ट लग रहा था।

Moral Story For Kids in Hindi
Moral Story For Kids in Hindi

किसान ने अपना झोला पेड़ से उतार कर के उसमें कुछ बर्तन जिसमें किसान ने खाना खाया था और कुछ बचे हुये बीज रख लिया और अपने घर आ गया। 


Monday, 24 December 2018

बाल कहानी : मोहन ने जीता पहला ईनाम, child story in hindi


बाल कहानी : मोहन ने जीता पहला ईनाम


मोहन अपने गांव के स्कुल में चौथी कक्षा में पढ़ता था, उसके स्कुल में हर साल जून के महीने में पर्यावरण दिवस मनाया जाता हैं, जिसमें बहुत तरह के प्रतियोगितायें होती हैं।

इस साल भी बहुत से बच्चों ने प्रतियोगता में भाग लिया हैं, मोहन भी प्रतियोगिता में भाग लेना चाहता हैं, मगर उसे पर्यावरण के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं हैं।

child story in hindi language
child story in hindi

स्कुल की छुट्टी होने पर मोहन अपने घर वापस आ रहा था, रास्ते में नदी किनारे उसने देखा की एक बहुत ही बूढ़ा व्यक्ति एक पेड़ लगा रहा था। 

मोहन को यह देख बहुत आश्चर्य हुआ, मोहन उस बूढ़े व्यक्ति के पास गया और उनसे पूछा की बाबा आप यह पेड़ क्यों लगा रहे हो...?

मोहन उनके पास बैठ गया और फिर बोला - बाबा यह पेड़ बहुत दिन बाद फल देगा, आप इतने बूढ़े हो क्या आप इसका फल खा सकोगे ?