Showing posts with label Ishwar chandra vidyasagar. Show all posts
Showing posts with label Ishwar chandra vidyasagar. Show all posts

Wednesday, 4 July 2018

ईश्वर चंद्र विद्यासागर की कहानी - ishwar chandra vidyasagar story in hindi


एक छोटा सा स्टेशन था, बहुत कम रेलगाड़ी ही वहाँ रुकती थी। शाम का समय था, अंधेरा हो रहा था। चारों ओर चिड़ियाँ चहक रहीं थी, उसी समय एक रेलगाड़ी छुक - छुक करती हुयी वहाँ रुकती हैं।

Ishwar chandra vidhya sagar

रेलगाड़ी से एक व्यक्ति हाथ में अपना सुटकेश लिए बाहर निकलते हैं।