Showing posts with label Achi Achi kahaniya. Show all posts
Showing posts with label Achi Achi kahaniya. Show all posts

Sunday, 27 January 2019

लोमड़ी और शेर की कहानी | Lomdi aur sher ki kahani | Fox and Lion story in Hindi


 लोमड़ी और शेर की कहानी 


lomdi aur sher ki kahani
लोमड़ी और शेर 

चंपक वन में एक शेर रहता था। एक दिन की बात है वह भूख से व्याकुल होकर इधर - उधर खाना ढूंढ रहा था। बहुत देर बाद भी जब उसे कुछ नहीं मिला तो वह एक गुफा के पास आ पहुँचा। 

वह गुफा में चला गया और सोचने लगा की यह गुफा जरूर किसी जानवर का होगा, में यहाँ छुप जाता हूँ जब वह जानवर इस गुफा में आयेगा तब में उसे खा जाऊँगा। 


Saturday, 9 June 2018

हंस किसका | राजकुमार सिद्धार्थ और देवदत्त की कहानी | Hans Kiska Kahani


हंस किसका 



एक दिन सुबह के समय राजकुमार सिद्धार्थ अपने बगीचे में टहल रहा था। बगीचा में फूलों की सुगंध थी, पक्षी चहचहा रहे थे , चिड़िया गाना गा रही थी। सिद्धार्थ को बहुत अच्छा लग रहा था।

Friday, 8 June 2018

अच्छी अच्छी कहानियां | achi achi kahaniya | achi kahaniya in hindi


Achi Achi Kahani - 1



एक लड़का था उसका नाम था वरदराज। वरदराज पढ़ने में बहुत कमजोर था। इस कारण सब लोग उसका मजाक उड़ाते थे, कोई मंदबुद्धि कहता तो कोई मुर्ख कहता था।

उसके सभी सहपाठी जो उसके साथ पढ़ते थे वे आगे की कक्षा में पहुँच गए लेकिन बालक वरदराज एक ही कक्षा में कई साल से पढ़ रहा था, उसे पढ़ाई लिखाई समझ में नहीं आती थी।


Saturday, 7 April 2018

अच्छी अच्छी कहानियां - साधु की सीख - achi achi kahaniya





अच्छी अच्छी कहानियां - साधु की सीख 


एक राज्य में एक राजा रहता था , जो बहुत ही घमंडी था उसके घमंड के चलते पड़ोसी राज्य से उसकी दुश्मनी हो गयी थी उसके अपने राज्य के लोग भी उसकी निंदा करते थे। 

एक दिन उस राज्य में एक साधू आये , उन्होंने उस राज्य में बहुत गरीबी देखा, पूछने पर लोगों ने अपने राजा की बुराई की और उसके घमंड के बरे में बताया , साधू ने राजा को सबक सिखाने की सोची। 

साधू राजा के पास गए , राजा ने उनसे पूछा आप क्या चाहते हैं महात्मा ?

साधू ने कहा - हे राजा में इस झोपड़ी में कुछ दिन रहना चाहता हूँ .


Friday, 2 February 2018

गुण और अवगुण की परख - achi achi kahaniya


एक समय की बात हैं , गुरुकुल के सभी छात्र आपस में द्वेष रखने लगे थे , सब एक दुसरे पर आरोप लगाते रहते थे। 

एक दिन यह बात गुरूजी को पता चली, वे इस बात से बहुत दुखी हुये उन्होंने शियों को समझने का कोई उपाय सोचा। एक दिन की बात हैं, गुरूजी पेड़ के निचे बैठकर शिष्यों को पढ़ा रहे थे। 

उन्होंने अपने दो शिष्यों को खड़ा किया और एक से कहा - तुम्हें इस जंगल का एक फूल तोर कर लाना हैं, लेकिन वह जंगल में सबसे अच्छा फूल होना चाहिये।

achi achi kahani
गुण और अवगुण की परख