Thursday, 3 January 2019

उम्मीद | Best Life Inspirational Story In Hindi Language

Inspirational Story In Hindi


एक बार एक आदमी रेगिस्तान में कहीं भटक गया। उसके पास खाने - पीने की जो थोड़ी बहुत चीज थी वो जल्दी ही खत्म हो गयी उसके शरीर का सारा पानी सुख चूका था और पिछले कई दिनों से वह पानी की एक बूंद के लिये तरस रहा था।

inspirational story in hindi
Inspirational Stories In Hindi

अब उसे यह समझ आ गया था की अगर उसे अगले कुछ घंटों में उसे पानी नहीं मिला तो उसकी मौत तो पक्की हैं।

लेकिन कहीं ना कहीं उसे ईश्वर में यकीन था की कुछ चमत्कार होगा और उसे पानी मिल जायेगा, तभी उसे एक झोपडी दिखाई दी। उसे अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हुआ पर उस आदमी के पास यकीन करने के आलावा कोई चारा भी तो नहीं था आखिर ये उसकी आखरी उम्मीद जो थी।

वो अपनी बची - खुची ताकत से उस झोपडी की तरफ बढ़ा.....जैसे जैसे वह झोपडी के करीब जाता उसकी उम्मीद पक्की होती जा रही थी, इस बार उसकी आँखों को कोई धोखा नहीं हुआ था बल्कि उस जगह एक झोपडी सच में मौजूद थी।

लेकिन जैसे ही वह झोपडी के नजदीक गया, ये क्या वहां तो कोई भी मौजूद नहीं था वह झोपडी पूरी तरह से वीरान परी थी। फिर भी पानी की उम्मीद में वह आदमी झोपडी के अंदर घुसा अंदर का नजारा देख उसकी आँखों पर विश्वास नहीं हुआ।


झोपड़ी में एक हैंडपंप लगा हुआ था, आदमी एक नयी ऊर्जा से भर गया, पानी की एक बून्द के लिये तरसता वह आदमी जल्दी - जल्दी हैंडपंप चलाने लगा, लेकिन यह क्या हैंडपंप तो कब का सुख चूका था।

आदमी निराश होकर जमीन पर गिर पड़ा, उसे लगा की अब वह मर रहा हैं, लेकिन तभी उसे झोपड़ी के छत से बंधी एक पानी की बोतल दिखी। उसने बिना देर किये हुए उस पानी की बोतल की उतार लिया।

अब वह बोतल खोलकर पानी पीने ही वाला था की तभी उसने बोतल पर चिपका एक कागज देखा उसपर कुछ लिखा हुआ था, उसपर लिखा था।

"इस पानी का उपयोग इस हैंडपंप को चलाने के लिये करो और बाद में इस बोतल को भर के वापस वही लगा देना"

अब यह उस आदमी के लिये अजीब स्थिति थी, उसे समझ नहीं आ रहा था की वह इस पानी को पीकर अपनी जान बचाये या फिर इस पानी से उस सूखे हैंडपंप को चालू करे।

उसके मन में यह तमाम सवाल चलने लगे। अगर पानी डालने के बाद भी यह हैंडपंप नहीं चला...? क्या पता की जमीन के नीचे का पानी ही सुख गया हो...? पता नहीं की बोतल पर लिखी यह बात सच है की झूठ...? मगर सच भी तो हो सकती हैं.....? बात झूठ निकली तो वह आदमी प्यास से मर भी सकता हैं। यह सब बातें उसके मन में चल रही थी। 

फिर कुछ सोचने के बाद उस आदमी ने बोतल का ढक्कन खोला और काँपते - काँपते उस हैंडपंप में पानी डालने लगा, पानी डालकर उसने मन में भगवान से प्रार्थना की और उस हैंडपंप को चलाने लगा.....एक दो तीन चार और उस हैंडपंप से ठण्डा ठण्डा पानी गिरने लगा। 

वह पानी अमृत से कम नहीं था।  उस आदमी ने जी भर पानी पिया और फिर उस बोतल को भर के वापस ऊपर लगाने लगा उसी समय उसे एक शीशे की बोतल दिखी उसमें एक पेंसिल और नक्शा थी जिसपर रेगिस्तान से बाहर निकलने का रास्ता बना हुआ था। 

आदमी ने उस नक्शे को अपने कपड़े पर पेंसिल से बना लिया और उसे वापस उस जगह रख दिया और उसने अपने बोतल में थोड़ा पानी भरा और उस झोपड़ी से बाहर निकल गया। 

लेकिन कुछ दूर जाने के बाद उस आदमी ने वापस मुड़कर उस झोपड़ी को देखा और फिर वह वापस उस झोपड़ी में आ गया, उसने वह पानी की बोतल उतारी और उसपर पेंसिल से कुछ लिखने लगा। 

उसने लिखा - मेरा यकीन करिये ये काम करता हैं। 

***

दोस्तों यह कहानी हमें सीखाती है की कैसी भी बुरी - से बुरी स्थिति में भी हमें उम्मीद नहीं छोड़ना चाहिये। कुछ भी बड़ा पाने के लिये हमें अपनी ओर से कुछ देना होता हैं...जैसे उस आदमी ने उस हैंडपंप को चलाने के लिये हाथ में मौजूद सारा पानी उसमें डाल दिया जो उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण थी। 

अगर आपको ये कहानी (Inspirational Story In Hindi Language) अच्छी लगती हैं तो इसे शेयर जरूर करें, ऐसी पाँच Motivational / Inspirational Stories In Hindi नीचे दी गयी हैं उसे भी पढ़ें इस कहानी को पढ़ने के लिये धन्यवाद...Thanks For Reading This Best Inspirational Stories In Hindi Language.






Related Inspirational Stories -

  1. जीतना है तो विश्वास रखो 
  2. चित्रकार की गलती 
  3. पढाई का असली महत्व 
  4. बाज की उड़ान 
  5. मन्दबुद्धि से विद्वान बनने का सफर 
  6. साहसी बालक की कहानी 
  7. किसान के चार आलसी बेटे की कहानी 
  8. रोचक कहानी : सबसे बड़ा सवाल 
  9. राजा विक्रमादित्य और किसान की कहानी 
  10. जादुई संतरा की कहानी 

No comments:

Post a Comment