Sunday, 2 September 2018

कबूतर और बाज की कहानी - pashu pakshi par kahani in hindi



Pashu pakshi ki kahani - दोस्तों हम शेयर कर रहें हैं। एक कबूतर और बाज की कहानी (birds story in hindi) इस कहानी से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

कबूतर और बाज की कहानी


एक बार की बात हैं। जंगल में पक्षियों का राजा बाज हुआ करता था। वह बहुत ही बलवान और घमण्डी था।

वह जरा सी गलती करने पर किसी भी पक्षी को मार देता था। उससे सभी पक्षी परेशान हो गये थे।

pashu pakshi par kahani in hindi
कबूतर और बाज

एक दिन जंगल के सभी पक्षियों ने एक सभा बुलायी, उस सभा में सबने विचार किया कि बाज को हटाकर शांत और सुन्दर कबूतर को नया राजा बनाना चाहिये।

लेकिन उनकी बात बाज मानने को तैयार नहीं था। फिर सबने एक प्रतियोगिता रखी।

शर्त थी कि जो बरगद पेड़ की मजबूत डाली को तोड़ देगा वही हमारा नया राजा होगा।

कुछ दिन बाद प्रतोयोगिता होनी थी। जंगल के सभी पक्षी उस जगह पर पहुँच चुके थे।

बाज को पेड़ दायीं तरफ की डाली को तोड़ना था, जबकि कबूतर को पेड़ की बायीं तरफ की डाली को तोड़ना था।

बाज ने अपना प्रयास शुरू किया, वह दूर से उड़कर आता और जोर से डाली पर बैठता, लेकिन डाली नहीं टूटी। 

बाज ने दोबारा प्रयास किया लेकिन डाली फिर भी नहीं टूटी। बाज आखिरी में थककर बैठ गया।

अब कबूतर की बारी थी। वह डाली भी उतनी ही मोटी थी, जितना बाज की डाली थी।

अब कबूतर ने अपना काम शुरू किया, वह उड़ता हुआ जोर का धक्का डाली को दिया, मगर इसबार डाली नहीं टूटी।

कबूतर ने दूसरी बार प्रयास किया वह पूरी ताकत के साथ आया और उस डाली पर बैठा।

उसके बैठते ही डाली टूटकर जमीन पर गिर गयी। सबने उसे अपना नया राजा बनाया, उसका खूब स्वागत किया गया। 

फिर उसे राजा वाले पेड़ पर बैठाया गया, और वह घमण्डी बाज अपना हार स्वीकार कर के जंगल से चला गया।

कबूतर से कुछ पक्षियों ने पूछा : महाराज, जब उस घमण्डी बाज से डाली नहीं टूटी तो आपके कैसे उस डाली को तोड़ दिया।

राजा कबूतर ने कहा : उस बाज से परेशान होकर सभी पक्षियों ने एक उपाय सोचा था।

में जिस डाली को तोड़ने वाला था, उस डाली को कठफोड़वा पक्षी ने पहले से खुरेड कर कमजोर बना दिया था।

पेड़ की सभी चींटियों ने भी उस डाली को अंदर से कमजोर बना दिया था, जब मैंने उस डाली को धक्का दिया और वह डाली टूट गयी।

सभी पक्षी कबूतर को अपना राजा बनाकर बहुत खुश थे। अब कोई भी उन्हें परेशान नहीं कर सकता था।

***

दोस्तों आशा हैं कि आपको यह pashu pakshi ki kahani अच्छी लगी होगी, यह एक bachon ki kahani हैं।अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी तो कृपया इसे WHATS AAP FACEBOOK GOOGLE - PLUS इत्यादि पर शेयर करें, धन्यवाद

ये कहानियाँ भी पढ़ें -


1 comment:

Aryan said...

ghamand ka anjaam bura hi hota aur buddhimaan unhe pachaad deta hai

Post a Comment