r

Tuesday, 14 August 2018

Hindi Ki Kahaniya | किसान की कहानी - सिर्फ एक वरदान | हिंदी की कहानियाँ

किसी गाँव में एक गरीब किसान रहता था, वह बहुत ही मेहनती और ईमानदार था। 

एक रात सपने में उसे भगवान मिले और बोले - मैं तुम से बहुत प्रसन्न हूँ। इसलिए तुम मुझसे कोई एक वर मांगो।

Hindi Ki Kahani image
Hindi Ki Kahaniya

किसान ने भगवान को प्रणाम किया लेकिन उसके समझ में नहीं आया की वह क्या वर माँगे, इसलिए उसने भगवान से बोला - भगवान में अपने घर के लोगों से बात - चीत कर के आपसे माँग लूँगा। 


सुबह होते ही किसान ने सारी बात अपनी पत्नी और माँ को बताया,  इसपर किसान की पत्नी बोली - हमें कोई संतान नहीं है, क्यों ना हम भगवन से पुत्र मांग ले।



किसान बोला - ये तो सही है, लेकिन हम बहुत गरीब हैं। हमारे पास रहने के लिए घर भी नहीं है। क्यों न घर ही मांग ले।



लेकिन उसकी पत्नी बोली - नहीं पुत्र मांगो, उस किसान को समझ नहीं आया की दोनों में से क्या मांगू.......क्योंकि माँगना तो एक ही वर है।



फिर दोनों एक बात पर सहमत हुए की हमसब में सबसे बुजुर्ग माँ ही हैं, चलो उनसे पूछते हैं।



किसान ने अपनी माँ से बोला - माँ आप ही बताओ, हमें क्या मांगना चाहिए।



ज्यादा उम्र के कारण किसान की माँ देख नहीं सकती थी, उनकी आंखें खराब हो गई थी, 



इसलिए कुछ देर विचार करने के बाद किसान की माँ बोली बेटा जब तुम्हेँ भागवान मिले तो उन्हें कहना कि - “भगवान मेरी माँ की इच्छा है की वह अपने पोते को सोने की थाली में खाना खाते देखे” 



किसान ने यही एक वरदान भगवान से मांगा और अपने माँ के कहे अनुसार एक ही वर से सब कुछ आप लिया।



भगवान के वर से किसान धनवान हो गया, सोने की थाली खरीदी, उसे एक बेटा हुआ और एक दिन जब वह खाना खा रहा था तब किसान के माँ की आंखे ठीक हो गई, भगवान का वर पूरा हुआ।



शिक्षा : हमारे जीवन में कई ऐसे मौके आते हैं। जब हम सब कुछ पा सकते हैं, लेकिन इसके लिये जरुरी है कि हमें अवसर की सही पहचान होनी चाहिए।


Hindi ki Kahaniya For Kids 

No comments:

Post a Comment