बच्चों की प्रेणादायक कहानी - रास्ते का पत्थर - Story for Kids in hindi


बच्चों की प्रेणादायक कहानी : रास्ते का पत्थर -Story For kids in Hindi


एक राजा था, उसे अपनी प्रजा से बहुत प्यार था। वह हमेशा उनके भले के लिए काम किया करता था।

एक दिन की बात हैं, राजा अपने नगर में साधारण भेष बनाकर घूमने निकला।

story for kids in hindi

राजा कुछ दूर ही गया था कि उसे रास्ते में एक बड़ा सा पत्थर दिखाई दिया।

राजा ने सोचा, चालो देखता हूँ, इस पत्थर को कौन हटाता हैं। यह सोच राजा दूर एक पेड़ के पीछे छुप गया।

कुछ देर बाद उसे एक बैलगाड़ी वाला आते देखा, बैलगाड़ी वाले ने पत्थर को देखा तो उसने गाड़ी को थोड़ा घुमा लिया और बिना हटाये आगे बढ़ गया।

कुछ देर बाद रास्ते से एक दूधवाला आया, उसका पैर उस पत्थर से जा लगा, उसका सारा दूध जमीन पर गिर गया। दूधवाले ने अपना बर्तन उठाया और पत्थर को बिना हटाये चला गया।

यह सब राजा पेड़ के पीछे छुपकर देख रहा था, उसने सोचा कि इस पत्थर को कोई हटाने वाला नहीं हैं, अब मैं जाकर हटा देता हुँ।

तभी उसे एक बूढ़ा व्यक्ति आता दिखा, उसके सिर पर फलों की टोकडी थी, जिसमें बहुत सारे फल थे।

उस बूढ़े व्यक्ति का पैर भी पत्थर से लगा और उसका फल जमीन पर गिर गया।

राजा पेड़ के पीछे से निकला लेकिन तभी उसने देखा कि एक छोटा बच्चा उसकी मदद के लिए दौरा आ रहा हैं। 

बच्चा आया उसने जल्दी - जल्दी सभी फल को उठाया और टोकडी में रख दिया, उसने उस व्यक्ति की टोकडी उठाने में उसकी मदद की और वह व्यक्ति भी फल ले चला गया।

फलवाले के जाने के बाद, वह बच्चा उस पत्थर को हटाने का प्रयास करने लगा।

बच्चें ने उस पत्थर को जोर से धक्का दिया, पत्थर थोड़ा अपनी जगह से हिला लेकिन फिर से वही आ गया।

राजा को यह देख बहुत खुशी हुई, राजा पेड़ के पीछे से निकला और  उसने उस बच्चें की मदद की, दोनों ने मिलकर उस पत्थर को हटा दिया।

राजा ने पूछा, क्या नाम हैं तुम्हारा? कहाँ रहते हो, और किस कक्षा में पढ़ते हो? 

बच्चें ने कहा, मेरा नाम मोहन हैं, में इसी गाँव में रहता हूँ, गाँव के विद्यालय में पाँचवी कक्षा में पढ़ता हूँ।

राजा ने उस बच्चें की पीठ थपथपाई और फिर वह बच्चा खेलने चला गया।

अगले दिन जब मोहन विद्यालय गया तो उसे राजा के तरफ से ईनाम मिला। प्रधानाचार्य जी ने मोहन की तारीफ की सभी बच्चों को बताया कि कैसे मोहन ने उस रास्ते में पड़ा पत्थर को लोगों के लिए हटाया, सभी बच्चें मोहन की ओर देख ताली बजाने लगे।

Related Stories for Kids -

No comments:

Post a Comment