Monday, 18 June 2018

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध - Swatantrata Diwas Par Nibandh


दोस्तों स्वतंत्रता दिवस हम सबके लिये एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार हैं, इस दिन हमारा देश अंग्रेजी शासन से आजाद हुआ था, स्वतंत्रता दिवस हमारे लिये सबसे बड़ा त्यौहार हैं, इसलिये हमने यहाँ स्वतंत्रता दिवस पर क्रमशः 100 से 400 शब्दों का निबंध लिखा हैं। आशा हैं की यह निबंध पढ़कर आपको स्वतंत्रता दिवस के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त होगी, तो चलिये पढ़ते हैं। 

Essay on independence day In Hindi



स्वतंत्रता दिवस निबंध 100 शब्द


15 अगस्त 1947 इस्वी, इसी दिन भारत देश आजाद हुआ था। इस आजादी को पाने के लिए हमारे देश के लोगों ने अनेकों आंदोलन तथा युद्ध किये। 

इस आजादी की लड़ाई में देश के बच्चें, बूढ़े, जवान, औरतें, सैनिक तथा समाज से हर वर्ग के लोगों ने अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था। 

15 अगस्त 1947 के दिन पंडित जवाहर लाल नेहरू जी ने दिल्ली के लाल क़िले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया था। 

इस दिन को हम राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाते हैं। इस दिन हम में झंडा फहराते हैं, राष्ट्रगान गाते हैं, परेड करते है, तथा अपने देश की सेवा करने का संकल्प लेते हैं।


स्वतंत्रता दिवस निबंध 150 शब्द


15 अगस्त सन् 1947 इस्वी, इस दिन भारतवासियों को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी। इस आजादी को पाने के लिये हमारे देश के वीरों ने कई आंदोलन और युद्ध किये जिसके बाद हमें यह गौरवपूर्ण आजादी मिली, जिसे हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं।

15 अगस्त 1947 को हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी ने दिल्ली के लाल किले पर पहली बार तिरंगा झंडा फ़हराया था।

 जिसके बाद प्रतिवर्ष देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर झंडा फहराते हैं और देश को संबोधन करते हैं।

इस अवसर पर पूरे देश में लोग झंडा फहराने के साथ परेड, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं. अपनी पोशाक, घरों पर, और अपने वाहनों पर ध्वज को प्रदर्शित करते हैं।

उत्सव मनाते हैं, देशभक्ति गीत संगीत और फिल्में देखते हैं और अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हुऐ देश की सेवा और सुरक्षा करने का संकल्प लेते हैं।



स्वतंत्रता दिवस निबंध 200 शब्द


स्वतंत्रता दिवस को हम भारत देश के राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाते हैं। इस दिन 15 अगस्त सन् 1947 इस्वी को भारत देश को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी।

15 अगस्त 1947 को हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी ने दिल्ली के लाल किले पर पहली बार तिरंगा झंडा फहराया था।

जिसके बाद प्रतिवर्ष स्वतंत्रता दिवस के दिन दिल्ली के लाल किले पर प्रधानमंत्री झंडा फहराते हैं। जिसे 21 तोपों की सलामी दी जाती हैं, फिर प्रधानमंत्री देश को संबोधित करते हैं।

इस आयोजन के बाद स्कूली छात्र तथा राष्ट्रीय कैडेट कोर के सदस्य राष्ट्रगान गाते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं। पूरा माहौल देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत हो जाता हैं।

इस अवसर पर पूरे देश में लोग झंडा फहराने के साथ राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत गाते हैं, स्कूलों और कॉलेजों में बच्चें परेड, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं, जुलूस निकालते हैं।

इस दिन देश के वीर सपूतों को याद करते हैं, तथा अपनी पोशाक, घरों पर, और अपने वाहनों पर राष्ट्रीय ध्वज को प्रदर्शित करते हैं, लोग उत्सव मनाते हैं, देशभक्ति गीत संगीत और फिल्में देखते हैं और अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हुऐ देश की सेवा और सुरक्षा करने का संकल्प लेते हैं।



स्वतंत्रता दिवस निबंध 250 शब्द


दोस्तों स्वतंत्रता दिवस को हम भारत देश के राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाते हैं। इसी दिन 15 अगस्त सन् 1947 इस्वी को भारत देश को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी।

इस आजादी को पाने के लिए हमारे देश के लोगों ने अनेकों युद्ध और आंदोलन किये। इस आजादी की लड़ाई में समाज के हर वर्ग के लोगों ने अपना सर्वस्व न्योछावर कर भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अपना योगदान दिया था।

आजादी की इस लड़ाई में हम विजयी हुए और अंग्रेजो को हमारा देश छोड़कर जाना पड़ा, जिसके बाद भारत देश एक स्वतंत्र और मजबूत राष्ट्र के रूप में उभरा।

15 अगस्त 1947 को हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी ने दिल्ली के लाल किले पर तिरंगा झंडा फ़हराया।

जिसके बाद प्रतिवर्ष देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर झंडा फहराते हैं और देश को संबोधन करते हैं।

आजादी के इस त्योहार को सभी भारतीय बड़े ही हर्षों उल्लास के साथ मानते हैं। इस उत्सव को मनमोहक बनाने के लिए भारतीय सेना द्वारा परेड किया जाता हैं।

इस दिन पूरे देश में जगह - जगह लोग झंडा फहराते हैं, राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान गाते हैं।

स्कूलों और कॉलेजों के बच्चें जुलूस निकालते हैं, नारे लगाते हैं। इस दिन देश के वीर सपूतों को याद किया जाता हैं, देशभक्ति फिल्मों और गानों से चारों तरफ देशभक्ति की भावना जागृत हो जाती हैं।

 उत्साह का माहौल हो जाता हैं। स्वतंत्रता दिवस को हम भारतीय बहुत ही गर्व के साथ मनाते हैं और अपने देश की रक्षा करने का संकल्प लेते हैं।



स्वतंत्रता दिवस निबंध 300 शब्द


प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता हैं। सन् 1947 ईस्वी में इसी दिन भारत के लोगों ने ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता प्राप्त की थी।

इस आजादी की लड़ाई में भारत के लोगों ने अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था, अनेकों युद्धों और आंदोलन करने के बाद हमें आजादी मिली थी।

15 अगस्त 1947 के दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने दिल्ली के लाल किले के लाहौरी गेट के ऊपर पहली बार देश का रास्ट्रीय ध्वज फहराया था।

इस दिन दिल्ली के लाल किले पर प्रधानमंत्री तिरंगा झंडा फ़हराते हैं। इसके बाद प्रधानमंत्री देश को संबोधित करते हैं। इस आयोजन के बाद स्कूली छात्र तथा राष्ट्रीय कैडेट कोर के सदस्य राष्ट्रगान गाते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं।

आजादी के इस त्योहार को सभी भारतीय बड़े ही हर्षों उल्लास के साथ मानते हैं। इस उत्सव को मनमोहक बनाने के लिए भारतीय सेना द्वारा परेड किया जाता हैं।

इस दिन पूरे देश में जगह - जगह लोग झंडा फहराते हैं, राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान गाते हैं। स्कूलों और कॉलेजो में इस दिन देश के वीर सपूतों को याद किया जाता हैं, देशभक्ति फिल्मों और गानों से चारों तरफ देशभक्ति की भावना जागृत हो जाती हैं।

इस अवसर पर देश के प्रत्येक राज्यों की राजधानी में झंडा फहराने का कार्यक्रम आयोजित किया जाता हैं। स्थानीय प्रशासन, जिला प्रशासन, नगर निकायों, स्कूलों और पंचायतों में भी इस प्रकार के आयोजन किये जाते हैं।

इस अवसर पर पूरे देश में लोग झंडा फहराने के साथ परेड, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं। इस दिन लोग अपनी पोशाक, घरों पर, और अपने वाहनों पर ध्वज को प्रदर्शित करते हैं। उत्सव मनाते हैं, देशभक्ति गीत संगीत और फिल्में देखते हैं और अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हुऐ देश की सेवा, सुरक्षा, प्रगति और विकास करने का संकल्प लेते हैं।



स्वतंत्रता दिवस निबंध 400 शब्द


स्वतंत्रता दिवस हर भारतीय के लिए एक खुशी का दिन हैं। हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता हैं। सन् 1947 ईस्वी में इसी दिन भारत के लोगों ने ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता प्राप्त की थी।

इस आजादी की लड़ाई में भारत के लोगों ने अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था. अनेकों युद्धों और आंदोलन करने के बाद हमें आजादी मिली थी।

भारत की संविधान सभा ने दिल्ली के संविधान भवन में 14 अगस्त को 11 बजे अपने पाँचवें सत्र की बैठक की। इस सत्र की अध्यक्षता भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद ने की इस सत्र में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने भारत की आजादी की घोषणा करते हुऐ नियति से नाता ( ट्रस्ट विद डेस्टिनी ) नामक भाषण दिया।

सभा के सदस्यों ने औपचारिक रूप से देश की सेवा करने की शपथ ली।

महिलाओं की एक समूह ने देश की महिलाओं का प्रतिनिधित्व किया व औपचारिक रूप से विधानसभा को राष्ट्रीय ध्वज भेंट किया। यह समारोह दिल्ली में हुऐ जिसके बाद भारत एक स्वतंत्र देश बन गया।

15 अगस्त 1947 के दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने दिल्ली के लाल किले के लाहौरी गेट के ऊपर पहली बार देश का रास्ट्रीय ध्वज फहराया था।

स्वतंत्रता दिवस भारत का राष्ट्रीय त्योहार हैं। प्रत्येक भारतीय इस त्योहार को बड़े ही हर्षों उल्लास के साथ मानते हैं।

देश के राष्ट्रपति स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर 'राष्ट्र के नाम संबोधन' देते हैं।

इसके बाद अगले दिन 15 अगस्त को दिल्ली के लाल किले पर देश के प्रधानमंत्री के द्वारा तिरंगा झंडा फहराया जाता हैं. जिसे 21 तोपों की सलामी दी जाती हैं।

इसके बाद प्रधानमंत्री देश को संबोधित करते हैं। इस आयोजन के बाद स्कूली छात्र तथा राष्ट्रीय कैडेट कोर के सदस्य राष्ट्रगान गाते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं। पूरा माहौल देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत हो जाता हैं।

इस अवसर पर देश के प्रत्येक राज्यों की राजधानी में झंडा फहराने का कार्यक्रम आयोजित किया जाता हैं।
स्थानीय प्रशासन, जिला प्रशासन, नगर निकायों, स्कूलों और पंचायतों में भी इस प्रकार के आयोजन किये जाते हैं।

इस अवसर पर पूरे देश में लोग झंडा फहराने के साथ परेड करते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रम करते हैं। लोग अपनी पोशाक पर , घरों पर, और अपने वाहनों पर तथा कार्यालयों में देश के राष्ट्रीय ध्वज को प्रदर्शित करते हैं।

उत्सव मनाते हैं, देशभक्ति गीत संगीत और फिल्में देखते हैं और अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हुऐ देश की सेवा और सुरक्षा विकास करने का संकल्प लेते हैं।