Pages

Motivational story-Sabsay Bada Rog,Kya Kahenge Log | कहानी - सबसे बड़ा रोग , क्या कहेंगे लोग

(Motivational story-Sabsay Bada Rog,Kya Kahenge Log)

एक बहुत ही बड़ा जंगल था , उस जंगल में बहुत से जंगली जानवर और पक्षी रहते थे ,उस जंगल में एक चूहा रहता था , लेकिन उसकी एक खास बात यह थी की उसे दस पूंछ था ,  जिसके वजह से जब भी वह जंगल निकलता था , उसे सभी चूहे छोटे जानवर और पक्षी सब उसका मजाक उड़ाते थे .

बेचारा चूहा बहुत दुखी और उदास रहता था , और एक दिन उसने अपना एक पूंछ काट लिया. लेकिन फिर भी


Story -  Sabase bada rog , kya kahenge log
Story -  Sabase bada rog , kya kahenge log 

सब उसका मजाक उड़ाते थे " नौ पूंछ वाला चूहा "

कुछ दिन बाद उसने अपना एक और पूंछ काट लिया और जंगल में गया , इसबार सब उसे आठ पूंछ वाला चूहा कहने लगे....
धीरे धीरे उसने अपना नौ पूंछ काट लिया, अब वो जंगल में गया और सबसे मिला...इसबार उसे सब देख कहने लगे "एक पूंछ वाला चूहा",

उस चूहे को बहुत गुस्सा आया और उसने अपना सारा पूंछ काट लिया...और जंगल में गया , इस बार उसे देख

सभी जोर जोर से हँसने लगे "बिना पूंछ का चूहा"

"कहानी का मतलब यही हैं की कहने वाले लोग कहते ही रहेंगे....दुनियाँ का सबसे बड़ा रोग , क्या कहेंगे लोग"

यह देख चूहा भी जोर जोर से हँसने लगा....उसे हँसता देख सब चुप हो गए और पूछे तू क्यों हँस रहा हैं तू तो बिना पूंछ वाला चूहा हैं?

चूहा हँसते हुए बोला क्या सच में मैं बिना पूंछ वाला चूहा हूँ ..हाहाहा

जब चूहे ने चिढ़ना बंद कर दिया तो उस दिन के बाद किसी ने उसका मजाक नहीं बनाया .

Related -

प्रेरणादायक कहानी - राजा और मकड़ी

असफलता के डरे नहीं सामना करें

आखिर क्यों नहीं रह पाते हम खुश

 विक्रम बेताल की पहली कहानी 

 विक्रम बेताल की तीसरी कहानी

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.