Saturday, 24 March 2018

Motivational Story In Hindi - अपने अंदर की खासियत को जाने

(Motivational Story In Hindi)-

एक जंगल में एक कौआ रहता था , एक दिन उसने हंस को देखा तो उसने सोचा हंस कितना सुंदर हैं में ऐसा क्यों नहीं हूँ  वह हंस से जाकर मिला और हंस की तारीफ़ करने लगा , 


To short and good story in hindi Know the specialty of yourself
Motivational story image

हंस बोला नहीं मित्र में तो हमेशा सोचता हूँ की मुझ से सुंदर तोता हैं , क्यों की वह इंसानों जैसी आवाज भी निकाल लेता हैं , उसके पास दो रंग हैं ,

अब कौआ तोता से मिलने गया और कहा मित्र तुम कितने सुंदर हो क्या में भी तुम्हारे जैसा बन सकता हूँ ?

तोते ने कहा मित्र में तो समझता हूँ की मुझ से सुंदर मोर हैं उसके पास बहुत सुंदर पंख हैं , और मोर नाच भी सकता हैं जिसे देखने बहुत से लोग आते हैं ,



toTo short and good story in hindi Know the specialty of yourself
Inspirational story image

अब कौआ मोर के पास गया और बहुत ही ख़ुशी मन से बोला मित्र तुम कितने सुंदर हो क्या में भी मोर जैसा दिख सकता हूँ , 


तब मोर ने कहा मित्र में तो सोचता था की इस जंगल का सबसे अच्छा पक्षी कौआ हैं...क्यों की कौआ जहाँ चाहे उड़ कर जा सकता हैं , कौआ मजबूत पक्षी होता हैं और अगर देखा जाए तो सभी पक्षियों में कौआ ही अकेला पक्षी हैं जिसे पिंजरे में नहीं रखा जाता , 


क्या फायदा इस सुन्दरता से मुझे तो चिड़ियाघर में बंद कर के रखते हैं .

To short and good story in hindi Know the specialty of yourself to
Inspirational story image

अब कौए को बात समझ आ गयी , और उसने मोर को धन्यवाद दिया और वहाँ से उड़ गया ,


दोस्तों इंसानों के साथ भी कुछ ऐसा ही होता हैं , हम हमेशा दुसरे की खासियत को देखते रहते हैं , हमारे अंदर जो खासियत मौजूद हैं वो हमे नहीं दिखता और यही वजह होती हैं की हम सब कुछ रहते हुए भी खुश नहीं होते हैं ,


इस कहानी में एक बात बहुत अच्छी थी की कौए के अंदर की खासियत उसे मिल गयी और कौआ खुश हो गया लेकिन तोता , हंस और मोर उसी गलतफहमी में फंसे रहे और दुखी रहे , क्यों की खासियत तो उनके अंदर भी थी लेकिन सब दुसरे की खासियत खोजने में लगे थे , एक बार अपने अंदर खोजिये आप को पता चल जायेगा की आपके अंदर क्या खासियत हैं , 



कहानी अच्छी लगी हो तो एक बार शेयर जरुर करें ......


ये कहानियाँ भी पढें -



No comments:

Post a Comment