Pages

Kids Moral Story - Lakadhara Aaur Jadui Kulhadi - लकड़हारा और जादुई कुल्हाड़ी

(kids stories in hindi with moral)-

किसी समय की बात हैं, सुंदरनगर में एक लकड़हारा रहता था, वह रोज अपनी कुल्हाड़ी लेकर जंगल जाता और वहाँ से लकड़ी काट उन्हें बाजार में बेचता था।


Kids Moral Story - Lakadhara Aaur Jadui Kulhadi
Kids Moral Story


एक दिन वह जंगल में लकड़ी काट रहा था, लकड़ी काटते - काटते वह बहुत थक गया, वह पेड़ से नीचे उतरा और थोड़ा खाना खा कर वही पेड़ के नीचे लेट गया। 

थकावट के कारण उसे जल्दी ही नींद आ गयी, नींद में उसने एक सपना देखा।

पेड़ से एक देवता प्रकट हुये और उसने उस लकड़हारा से कहा :- में तुमसे बहुत प्रसन्न हूँ ....तुम पेड़ की सुखी टहनियों को काट देते हो जिससे पेड़ का बोझ हल्का हो जाता हैं, पेड़ इससे बहुत खुश होते हैं।


इस जंगल के सभी पेड़ चाहते हैं कि में तुम्हें कुछ उपहार दूँ....यह लो जादुई कुल्हाड़ी, इस कुल्हाड़ी से तुम चार गुना अधिक लकड़ी काट पाओगे।



लकड़हारा बहुत खुश हुआ उसने वह कुल्हाड़ी ली और जल्दी ही बहुत सारी लकड़ी काट बाजार में बेच दिया।

वह घर जाकर जादुई कुल्हाड़ी अपनी पत्नी को दिखाया और पूरी कहानी सुनायी। अब लकड़हारा जादुई कुल्हारी से ज्यादा लकड़ी काटता था, जिससे कुछ ही दिन में वह धनवान होने लगा।




यह बात जब उसके पड़ोसी लकड़हारे को पता चली तो उसने सोचा की क्यों न में इसकी कुल्हाड़ी चुरा लूँ....? इसकी जादुई कुल्हाड़ी से में जल्दी ही बहुत सारे पेड़ काटकर धनवान हो जाऊँगा।

एक रात लकड़हारा सोया था। उसका पड़ोसी आया और उसने जादुई कुल्हारी चुरा ली और वहाँ ठीक वैसे ही नकली कुल्हाड़ी रख दिया।

सुबह जब लकड़हारा अपनी कुल्हारी ले जंगल में गया तो उसकी कुल्हारी से लकड़ियाँ पहले जैसी नहीं कट रही थी , फिर उसने एक आवाज सुनी दूर से उसका पड़ोसी लकड़हारा चिल्ला रहा था "कोई हैं बचाओ बचाओ ",


लकड़हारा जब उसके पास गया तो देखा की उसका पड़ोसी उस पेड़ से चिपक गया हैं और वह कुल्हाड़ी

भी उसके पास हैं , अब लकड़हारा सब समझ गया , वह पड़ोसी लकड़हारा ने भी सब कुछ बता दिया और कहा मित्र मुझे माफ़ कर दो यह कुल्हाड़ी तुम्हारी हैं मुझे पेड़ से छुड़ा दो ,


लकड़हारा ने उस पेड़ के देवता को याद किया और कहा की इसे छोड़ दीजिये , अब वह लकड़हारा छुट गया , इस लकड़हरे को अपनी जादुई कुल्हारी मिल गयी और वह ख़ुशी ख़ुशी रहने लगा


Related Story -

Kids Moral Story - किसान के लिए सम्मान

Kids Moral Story -ईश्वर हमेशा देखते रहते हैं

Kids Moral Story -पंचतंत्र की कहानी - नीला सियार

Kids Moral Story -घमंडी बाज और मधुमक्खियाँ

kids stories in hindi with moral

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.