r

Sunday, 31 December 2017

Inspirational story - किसान और फूटा घरा

एक गाँव में एक किसान रहता था | वह बहुत परिश्रमी था ,वह रोज अपने कंधो पर पानी भरा घरा रखता और नदी से पानी भर कर अपने खेतों को सिंचता था |

ऐसा वो रोज करता था लेकिन उसके घरे में एक छेद था जिसके कारण घरे का कुछ पानी रास्ते में गिर जाता था | इस बात से उसका मन बहुत परेसान रहता था |

एक दिन की बात  हैं जब वह पानी ले जा रहा था तभी एक बुढ़े व्यक्ति ने उसे रोका और धन्यवाद दिया |

किसान को ये बात समझ नहीं आयी |
inspirational story is the best story
inspirational story

किसान ने पूछा - बाबा आपने मुझे धन्यवाद क्यों दिया में ने तो एसा कोई कार्य नहीं किया |

बुढ़े व्यक्ति ने कहा - बेटा में इस रास्ते से कुछ दिन पहले गया था तब ये इतना हरा भरा नहीं था ,  बहुत सारे

कंकड़ पत्थर इस रास्ते में थे बहुत कम लोग इधर से जाते थे |

तुम्हारे घरे से रोज इस रास्ते पर थोड़ा - थोडा पानी गिरने के कारण  यह रास्ता कितना हरा - भरा हो गया इसके

किनारे देखो कितने सुंदर - सुंदर फूल आ गये , मैने इसीलिए तुम्हे धन्यवाद दिया |

किसान ने कहा - बाबा मेरे घरे से पानी गिरता हैं में इस बात से हमेशा परेसान रहता था |


लेकिन अब में इस रास्ते को ऐसे ही हरा - भरा रखूँगा |

उस दिन के बाद किसान ने थोडा - थोडा ध्यान उस रास्ते पर दिया और वह रास्ता हरा भरा हो गया वहां से लोग आने - जाने लगे |

दोस्तों जरा ध्यान दीजियेगा ऐसा ही कोई कार्य आप से भी होता हो , अगर नहीं होता तो कुछ ध्यान देने से हो सकता हैं | यह कहानी आपको कैसी लगी कमेंट में हमें जरुर बताईये 

No comments:

Post a Comment