r

Friday, 22 December 2017

चार बेवकूफ मित्र | best moral story in hindi

एक समय की बात हैं | सुंदरनगर में चार मित्र रहते थे , चारों में अच्छी मित्रता थी , वे साथ में खेलते घुमते और

अन्य कार्य करते थे ,  एक दिन की बात है चारों ने सोचा की चलो पास के नगर में जाकर जादुई विद्या सीखते हैं|

सभी मित्र जादुई विद्या सीखने के लिए पास ने नगर में चले गए , वहा उन्होने बहुत अच्छे से विद्या सीखी |

जब उन्होने जादुई विद्या सिख लिया तो वापस अपने घर आने लगे , वे जंगल से आ रहे थे तभी उन्हे एक मरे हुए

शेर का कंकाल दिखा  | एक ने बोला देखो मेरे जादू का कमाल में इस हड्डियों को जोर सकता हूँ , उसने अपने

जादू से उन हड्डियों को जोर दिया |

तभी दुसरे मित्र ने बोला -  ये तो कुछ भी नही देखो मेरे जादू का कमाल में इस हड्डियों में मांस और चमड़ा लगा

सकता हूँ , उसने अपना जादू दिखाया और मांस और चमड़ा लगा दिया |
lion is animal
best moral story
यह देख तीसरा मित्र हँसने लगा वो बोला - अरे मेरा जादू देखो में इस शेर के बाल और नाखून अपने जादू से लगा

सकता हूँ , उसने भी बाल और नाखून लगा दिए |

अब आखरी मित्र बोला - मेरा जादू देखना चाहते हो देखो में इसे जिन्दा कर सकता हूँ | उसने अपने जादू से उस


शेर को जिन्दा कर दिया |

जैसे ही शेर जिन्दा हुआ वह दहारने लगा और उसने चारों को मार डाला |

इतना कहानी सुनाने के बाद  बेताल ने बिक्रम से पूछा - बता बिक्रम उन चारों मित्र में से सबसे बड़ा बेवकूफ कौन था |
image of bikram and vetal
bikram vetal image


बिक्रम ने कहा - बेताल सुन उन चारों में से सबसे ज्यादा बेवकूफ वह था जिसने शेर को जिन्दा किया क्यों की

अगर शेर जिन्दा नहीं होता तो सब की जान बच जाती  |

व्यापारी और उसका गधा | best moral story in hindi

No comments:

Post a Comment